रविवार, 21 सितंबर 2008

प्रभा जी का लेखन हमेशा प्रेरणा देता रहेगा


रोज की तरह आज भी अखबार देख रहा था ।

अचानक एक ख़बर पर नज़र गई ।प्रभा खेतान नहीं रहीं ... ये क्या पीली आंधी, छिन्नमस्ता , सिमोन द बोउवा की पुस्तक ‘दि सेकेंड सेक्स’ के अनुवाद ‘स्त्री उपेक्षिता’ की लेखिका प्रभा जी नहीं रहीं ....

मैंने छिन्नमस्ता और ‘स्त्री उपेक्षिता’ दोनों को पढा है । एमए के बाद मैं स्त्री विमर्श विषयक शोध के सिलसिले मेंकुछ ढूँढ रहा था। तब मैंने ये किताबें पढी.

प्रभा जी का लेखन हमेशा प्रेरणा देता रहेगा ।

महान लेखिका प्रभा जी को विनम्र श्रद्धांजलि।

1 टिप्पणी:

  1. didi key sarey upnays mai padh chuki hu..sabse zakzor denewala upanyas "Chinnamasta" laga. mera rearch unike upnyso par chal raha hai..sachme didi 1 prernastrot ke roop me samne aai hai..nari vadi chintan yewam bhumandalikarn 1 anokha sangam unike liekhan me dekhne ko mila hai. didi ki kami tho hamesha masus hogi..par wah aapne likhn ke jareye sadda hamare satth hongi...didi ko bahvbhine sardhanjale..............seema jadhav

    उत्तर देंहटाएं